Padmavat

करनी सेना पद्मावत देखने को हुई तैयार, लोकेन्द्र सिंह कालवी का बड़ा एलान

Spread the love

काफी समय से पद्मावत का विरोध कर रही करनी सेना, अब इस फिल्म को देखने के लिए तैयार हो गयी है। करनी सेना ने कहा की फिल्म निर्माता ने एक साल पहले, हमें आश्वासन दिया था कि वह एक विशेष स्क्रीनिंग के लिए जाएंगे। देर से ही सही लेकिन अब उन्होंने स्क्रीनिंग के लिए कहा है, तो हम इसके लिए तैयार हैं। करनी सेना के नेता लोकेंद्र सिंह काल्वी ने उत्तर प्रदेश से फोन पर यह बातें कही। करनी सेना ने आरोप लगाया था की, फिल्म में ऐतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ किए गए हैं। संजय लीला भंसाली ने 20 जनवरी को श्री राजपूत करनी सेना और राजपूत सभा, जयपुर को एक पत्र लिखा था। पत्र में भंसाली ने उन्हें फिल्म देखने के लिए आमंत्रित किया। भंसाली ने यह भी आश्वासन दिया कि, इस फिल्म में राजपूत समुदाय के सम्मान और वीरता को प्रदर्शित किया गया है।

karni sena ready to watch padmavat before release

karni sena ready to watch padmavat before release

4 राज्यों द्वारा फिल्म पर लगाया गया था प्रतिबन्ध

सेंसर बोर्ड द्वारा फिल्म को मंजूरी मिलने के बावजूद राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश और हरियाणा की सरकारों द्वारा इसे प्रतिबंधित कर दिया गया था। हालांकि, इस प्रतिबंध को सर्वोच्च न्यायालय ने अब हटा दिया है। प्रदर्शनकारियों ने फिल्म पद्मावत की रिलीज़ के विरोध में अब तक तीन बसों को आज के हलावे कर दिया है। मेहसाणा जिले के विभिन्न हिस्सों में कम से कम, छह अन्य बसों की खिड़कियों के शीशे क्षतिग्रस्त कर दिए गए हैं। इस बीच भीलवाड़ा में एक युवक पद्मावत के प्रतिबन्ध हेतु, पेट्रोल की एक बोतल के साथ 350 फुट लंबा मोबाइल टावर चढ़ा गया। वह प्रदर्शनकारियों के ही बीच का था, जो पद्मावत रिलीज़ के खिलाफ धरना दे रहे थे। वह टावर से तब उतरे जब स्थानीय प्रशासन ने उन्हें आश्वासन दिया कि, उनके खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं किया जाएगा।

दीपिका पादुकोण के रोल को लेकर करनी सेना को आपत्ति

फिल्म में दीपिका पादुकोण के रोल के चित्रण को लेकर करनी सेना भड़की हुई है। फिल्म में माना जा रहा था की, सपने में खिलजी और पद्मावत का रिश्ता दिखाया गया है। निर्माता ने दावा करते हुए इन आरोपों से साफ़ इनकार किया है। करनी सेना के प्रमुख लोकेंद्र सिंह काल्वी ने फिल्म रिलीज़ के खिलाफ प्रदर्शन की धमकी दी थी। करनी सेना ने यह भी धमकी दी है कि वे सीबीएफसी प्रमुख प्रसून जोशी को, राजस्थान में प्रवेश नहीं करने देंगे। इस बीच, गुजरात, महाराष्ट्र और हरियाणा में फिल्मों की स्क्रीनिंग का विरोध करने वाले समूहों द्वारा बर्बरता के खतरों के कारण, थियेटरों की सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है।

करनी सेना अध्यक्ष लोकेन्द्र सिंह कालवी के पद्मावत फिल्म देखने के इस फैसले से ना सिर्फ फिल्म निर्माता, बल्कि आम जनता भी खुश है। आम जनता को पद्मावत विरोध प्रदर्शन के कारण जो परेशानियाँ झेलनी पड़ रही है, उससे उन्हें राहत मिल सकती है।  साथ ही जो भारतीय इस फिल्म को देखने के इच्छुक हैं, उनके लिए भी यह एक अच्छी खबर है। हालांकि, अभी तो लोकेन्द्र सिंह कालवी ने सिर्फ फिल्म देखने की ही बात कही है। फिल्म देखने के बाद उनका क्या फैसला होता है, यह देखना अभी शेष है। विरोध प्रदर्शन ख़त्म होने के लिए, कालवी का सिर्फ पद्मावत देखना मायने नहीं रखता। फिल्म देखने के बाद पद्मावत को लेकर, उनके निर्णय का सभी को इन्तजार रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *