This airforce group captain sent the photo of important documents to isi agent

भारतीय वायुसेना के ग्रूप कैप्टन ने ख़ुफ़िया दस्तावेजों की जानकारी आईएसआई को दी, आईएसआई ने महिलाओं का इस्तेमाल कर बिछाया था जाल

Spread the love
This airforce group captain sent the photo of important documents to isi agent

This airforce group captain sent the photo of important documents to isi agent

आज देश में एक-एक कर जवान शहीद हो रहे हैं। पाकिस्तान द्वारा सीज फ़ायर का उल्लंघन आए दिन होता रहता है। ऐसे में, वायुसेना के एक ग्रूप कैप्टन ने देश के ख़ुफ़िया दस्तावेज़ों को लीक कर दिया। वायुसेना के इस ग्रूप कैप्टन का नाम अरुण मारवाह है। वायुसेना के ख़ुफ़िया दस्तावेज़ों को वे दो महिलाओं को, वाटसैप के ज़रिए भेजा करते थे। वह दोनों महिलाएँ आईएसआई की एजेंट थी। दिल्ली की स्पेशल सेल पुलिस ने कैप्टन को गिरफ़्तार कर लिया है। पुलिस अभी कैप्टन से पूछताछ में जुटी है। कैप्टन अपना पर्सनल फ़ोन लेकर यूनिट में जाता था, जब की उन्हें ऐसा करना मना था। उन्हें एक ख़ास फ़ोन दिए जाते हैं, जिसे लेकर उन्हें यूनिट में जाना होता है। कैप्टन दोनों महिलाओं से फ़ेसबूक के ज़रिए कांटैक्ट में आए थे। उसके बाद धीरे – धीरे वाटसैप पर बात होने लगी। कैप्टन ने महिला को दस्तावेज़ की जानकारी देकर, देश के साथ धोखा करने का काम किया है। इस ग्रूप कैप्टन का पुत्र भी वायुसेना में ही कार्यरत है। कैप्टन को पाँच दिनों के पुलिस रेमाँड में रखा गया है। पुलिस उनसे कई अहम सवालों के जवाब जानना चाह रही है।

ग्रूप कैप्टन द्वारा संदिग्ध गतिविधियों को अंजाम देने के बाद वायुसेना को उन पर शक हुआ। उसके बाद 31 जनवरी को वायुसेना की टीम द्वारा उन्हें हिरासत में लिया गया। आईएसआई ने फ़ेसबूक को अपना हथियार बनाया था। फ़ेसबूक पर मॉडल महिला की प्रोफ़ायल देखकर, कैप्टन ने अपना आपा खो दिया। वह दोनों महिलाओं से चटपटी बातें किया करता था। इसके बाद वाटसैप पर महिलाएँ, चटपटी बातों के बदले, कैप्टन से ख़ुफ़िया दस्तावेज़ शेयर करने को कहती थी। कैप्टन अपने फ़ोन से उनकी फोटोज लेकर महिला को भेजा करते थे। फ़िलहाल पुलिस को पैसे के किसी लेन देन का मामला नज़र नहीं आ रहा।

अभी तक की मिली जानकारी के अनुसार, कैप्टन अरुण ने दो तरह की अभ्यासों की जानकारी आईएसआई को दे दी है। इन दोनों अभ्यासों में ट्रेनिंग और युद्ध सम्बंधित अभ्यास शामिल हैं। इन अभ्यासों में एक अभ्यास गगन शक्ति नामक है, जिसकी जानकारी कैप्टन ने आईएसआई को मुहैय्या करवायी। सूत्रों के अनुसार कैप्टन को जस्टिस दीपक सेहरावत के समक्ष पेश किया गया था। पुलिस इस मामले में अभी कुछ भी बोलने से बच रही है। दिल्ली स्थित लोधि कालोनी में कैप्टन अरुण से पूछताछ जारी है। उसके किसी और साथी के मिले होने के नज़रिए से भी पुलिस पूछताछ कर रही है। पुलिस ने कैप्टन अरुण का फ़ोन ज़ब्त कर लिया है। पुलिस वायुसेना के इस कैप्टन से उन महिलाओं की जानकारी लेने में जुटी है। साथ ही लीक किए गए सभी दस्तावेज़ों के बारे में पुलिस पूछताछ कर रही है।

वायुसेना ग्रूप कैप्टन अरुण मारवाह ने जो काम किया है, वह बेहद ही शर्मनाक है। अपने मनोरंजन के लिए उन्होंने लाखों जानों को दाव पर लगाने की कोशिश की। उन्हें अपने उन साथियों की क़ुरबानी याद नहीं रही, जिन्होंने देश की रक्षा के लिए अपने सीने पर गोलियाँ खायी। भारतीय जवानों के हौसले की दाद पूरी दुनिया देता है। ऐसे में कुछ गिरे हुए अधिकारी इन्हें बदनाम करने में लगे हैं। इस वायुसेना कैप्टन के साथ वही सलूक होना चाहिए, जो एक देश के ग़द्दार के साथ होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *