Hyderabad : Girls hanged herself on videocall with boyfriend

बीजेपी कार्यकर्ता के हत्या के मामले में 4 लोग गिरफ्तार

Spread the love

Four people arrested in murder of bjp worker

Four people arrested in murder of bjp worker

पुलिस ने आज कांग्रेस नेता के पुत्र सहित 4 अन्य लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। उनके ऊपर बीजेपी के कार्यकर्ता की हत्या का आरोप है। पुलिस की जांच में पता चला की, हत्या का मुख्य कारण निजी दुश्मनी थी। इससे पहले बीजेपी ने आरोप लगाते हुए कहा था की, हत्या का कारण राजनीतिक प्रतिद्वंदता है।

संतोष जिसकी उम्र 28 वर्ष थी, को चिन्नप्पा गार्डन के एक बेकरी के पास मार दिया गया था। रात 9 बजे इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी। गिरफ्तार किए गए लोगों की पहचान वसीम, फिलिप, उमर और इरफान के रूप में हुई है।  मुख्य आरोपी वसीम, कांग्रेस पार्टी, खादर के ब्लॉक नेता का बेटा है, और अपने घर के पास एक बेकरी चलाता है। उमर एक फर्म के लिए काम करता है। फिलिप एक जिम प्रशिक्षक है, और इरफान व्यवसाय से एक दर्जी है। बुधवार रात चिन्नप्पा गार्डन में तनावपूर्ण माहौल प्रबल हो गया, क्योंकि सैकड़ों लोगों ने हत्या का विरोध किया। संतोष के घर के सामने गुरुवार को विरोध प्रदर्शन जारी रहे, लेकिन पुलिस ने आवश्यक कार्रवाई करने का वादा करने के बाद भीड़ हटाई।

पूर्व गृह मंत्री आर.अशोक सहित भाजपा के नेता, उनके सम्मान के लिए संतोष के घर गए थे। पार्टी नेताओं ने मांग की कि सरकार, संतोष के परिवार को मुआवजे का भुगतान करे और हत्यारों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करे। संतोष, एक ऑटो रिक्शा चालक, अपने दोस्तों अशोक, राजेश, रवि, विजय और विकी के साथ चिन्नप्पा गार्डन क्षेत्र के चारों ओर घूम रहे थे। कहा जाता है कि दोनों समूहों ने कुछ मुद्दे पर बहस की, और वसीम ने संतोष पर हमला किया। संतोष का खून बहना शुरू हो गया फिर उसके दोस्त उसे महावीर जैन अस्पताल गए, जहां उनका इलाज चल रहा था। पुलिस ने एक घंटे के भीतर वसिम और फिलिप को, गवाह अशोक के वक्तव्य के आधार पर हिरासत में लिया था। दूसरे दो जो भाग गये थे, गुरुवार को पकड़े गए थे।

पुलिस उपायुक्त (उत्तर) चेतन सिंह राठौर ने कहा, प्रारंभिक जांच से पता चला है कि अभियुक्त और मृतक एक ही इलाके में रहते थे और उन्होंने कुछ मुद्दे पर शत्रुता पैदा कर ली थी। हम अभी तक पुष्टि नहीं कर सके कि लड़ाई एक राजनैतिक पार्टी के बैनर पर थी। पुलिस ने सभी अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया है, और मामले की आगे जांच कर रहे हैं। वासिम ने केवल एक बार संतोष की जांघ पर हमला किया और यह एक घातक चोट नहीं था, राठौर ने कहा। पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर उनकी मृत्यु के कारण जान पाएगी। यह संभावना है कि संतोष का एक महत्वपूर्ण रक्त वेसेल क्षतिग्रस्त हो गया हो, और उसकी मृत्यु हो गई।

संतोष का भाई भी भाजपा कार्यकर्ता हैं। परिवार के सदस्यों का आरोप है कि संतोष भाजपा के पारिवारथाना रैली के बैनर लगाने की कोशिश कर रहे थे। उन्होंने यह भी आरोप लगाया है कि संतोष ने तीन महीने पहले, जेसी नगर पुलिस से संपर्क किया था। वसीम के खिलाफ क्षेत्र में ड्रग्स लेने के लिए और उन्हें धमकी देने के लिए शिकायत की, लेकिन पुलिस ने कोई एक्शन नही ली। राठौडर ने हालांकि, स्पष्ट किया कि संतोष द्वारा जेसी नगर पुलिस से कोई शिकायत नहीं की गई थी। पोस्टमार्टम के बाद संतोष की बॉडी परिवार को सौंप दिया गया था। अशोक ने मीडिया को बताया कि संतोष को इलाके में, दवाओं के तहखाने का विरोध करने के लिए मारा गया था। वह भाजपा कार्यकर्ता पर हमले के बाद मुख्यमंत्री और गृह मंत्री से जवाब चाहते थे। गृह मंत्री रामलिंगा रेड्डी ने कहा कि, मृतक कोई बीजेपी कार्यकर्ता नहीं था।

हमारे वेबसाइट पेज पर विजिट करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। इमेल द्वारा न्यूज़ प्राप्त करने के लिए, आप हमें सब्सक्राइब कर  सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *