पुलिस ने अपहरणकर्ताओं के चंगुल से 5 वर्षीय स्कूली छात्र को सुरक्षित छुड़ाया

Spread the love
Kidnappers had kept the boy in this rented flat

Kidnappers had kept the boy in this rented flat

काफी गोलीबारी के बाद, पुलिस ने पाँच वर्ष के बच्चे को अपहरणकर्ताओं के चंगुल से छुड़ा लिया है। इस गोलीबारी में, एक अपराधी को जान से हाथ धोना पड़ा। दो अन्य अपराधी घायल हो गये। बच्चे को स्कूल बस से अगवा किया गया था, जिसके बाद मंगलवार को पुलिस ने बदमाशों से लड़ कर बच्चे को बचा लिया। इस घटना में, एक पुलिस ऑफिसर को भी गोली लगी, लेकिन बुलेटप्रूफ जैकेट होने के कारण वह बच गए। इस घटना में बच्चे को, किसी तरह की कोई चोट आने की खबर नहीं है। 

बच्चे  को 25 जनवरी को अगवा किया गया था। उन्होंने परिवार से 60 लाख रुपये की फिरौती की मांग की थी। विशेष आयुक्त आर.पी उपाध्याय ने पुष्टि की कि, बच्चा सुरक्षित है और अपने माता-पिता के साथ है। यह ऑपरेशन, संयुक्त आयुक्त आलोक कुमार ने किया था। एक आपराधी जो मारा गया था, उसे रवि के रूप में पहचाना गया है। उसे जीटीबी अस्पताल ले जाया गया, जहां उसके पहुँचने पर मृत घोषित कर दी गयी। दो अन्य अपराधियों के जांघ और पैर पर चोट लगी।

Kidnapped boy with his parents

Kidnapped boy with his parents

एक मोटर साइकिल पर दो सशस्त्र अपराधियों ने एक स्कूल बस को घेर लिया, फिर चालक पर गोलीबारी की गई और पांच वर्षीय लड़के को वाहन से बाहर खींच लिया गया। टीओआई ने बताया था कि गुरुवार की सुबह इस अपराध के बाद, अपहरणकर्ता दिल्ली-उत्तर प्रदेश सीमा से भाग गए थे। अपहरण के वक़्त, बस में लगभग 14-15 बच्चे थे। पूर्वी दिल्ली के एक अस्पताल के पास, एक बच्चे को लेने के लिए वाहन धीमा हो रहा था। सशस्त्र बाईकर्स में से एक ने वाहन की चाबियाँ छीनने की कोशिश करते हुए, पैर में चालक को गोली मार दी। दूसरे अपराधी बस के पीछे खड़े थे। लक्षित बाल, एक नर्सरी छात्र, स्कूल की पोशाक में नहीं था। उसके पास आईडी कार्ड भी नहीं था, क्योंकि उसे स्कूल में फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता में भाग लेना था।

अपराधियों ने बस में प्रवेश किया, और बच्चे के नाम को बुलाया। एक पुलिस अधिकारी ने कहा, लड़का आम तौर पर सामने बैठता था, लेकिन गुरुवार को वह पीछे बैठा था। बच्चे की बहन और एक महिला स्कूल कर्मचारी भी बस में मौजूद थी। अपराधियों ने बच्चे को बस से बाहर खींच लिया, और बाइक पर बैठाकर भाग गए। 1 जनवरी को, दक्षिण दिल्ली के एक व्यापारी के बेटे को वसंत विहार के पास से अपहरण कर लिया गया था। उनसे 5 करोड़ रुपये की फिरौती की मांग की गई थी। अपने बेटे को रिहा करने के लिए परिवार ने 4 करोड़ रुपये का भुगतान किया था।

पाँच साल के इस बच्चे को छुड़ाने में, दिल्ली पुलिस का यह कदम काफी सराहनीय था। पुलिस द्वारा उठाये गए ऐसे क़दमों से, आम जनता का आज भी पुलिस पर भरोसा कायम है। ऐसे पुलिसवाले जो अपने जान की बाजी लगा कर ड्यूटी करते हैं, उन्हें हमारा देश सलाम करता है।

हमारे वेबसाइट को विजिट करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद । हम आपके पुनः पधारने की मनोकामना करते है। ईमेल द्वारा सभी ख़बरों को प्राप्त करने के लिए, हमें सब्सक्राइब करना ना भूलें। आप हमें सोशल मीडिया जैसे- फेसबुक, ट्विटर इत्यादि पर भी फॉलो कर सकते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *