Kidnappers had planned to loot house before kidnapping vihan gupta

दिल्ली : विहान गुप्ता अपहरण मामले में नया खुलासा, घर से पैसे लूटने की योजना थी पहले

Spread the love
Kidnappers had planned to loot house before kidnapping vihan gupta

Kidnappers had planned to loot house before kidnapping vihan gupta

जीटीबी हॉस्पिटल के समीप, पाँच साल के बच्चे के अपहरण मामले में पुलिस ने आज नया खुलासा किया है। पुलिस ने बताया की, अपहरणकर्ताओं को यह बात मालुम थी की विहान गुप्ता (जिसका अपहरण हुआ) के पिता ने, एक व्यापर डील में 57 लाख रुपये जीते हैं। अपहरणकर्ताओं ने पहले घर से पैसे चुराने की साजिश की थी, लेकिन बाद में उन्होंने इसे अपहरण में बदल दिया। उन्हें लगा की, अपहरण कर पैसे ले पाना ज्यादा आसान होगा।

पुलिस ने विहान को एक दिल्ली के साहिबाबाद आवास सोसायटी से मंगलवार को बचाया था। इस कार्यवाई में एक अपहरणकर्ता की हत्या की गई, एक और घायल हो गया। तीसरे को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था, जब एक टीम ने उस फ्लैट पर हमला किया जहां बच्चे, को बंधक बना कर रखा गया था। अपहर्ताओं को मालुम नहीं था कि, लड़के के पिता ने घर पर नकदी रखी थी या नहीं। चूंकि यह एक बड़ी राशि थी, इसलिए उन्होंने सोचा कि लड़के का पिता, इतनी आसानी से पैसे नहीं देंगे और डकैती हिंसक हो सकती है। पुलिस ने कहा कि बच्चे के पिता और अपहरणकर्ताओं में पैसे का कोई लेन देन नहीं हुआ। पुलिस जांच में कहा गया है कि कथित मास्टरमाइंड, नितिन कुमार शर्मा, गुप्ता का एक ग्राहक था, जिन्होंने थोक में शर्मा को प्लास्टिक के सामान बेचे थे। शर्मा एक ढाबा चलाता था। वह गुप्ता से डिस्पोजेबल प्लेट्स खरीदतता था, और अक्सर अपने पड़ोस (न्यू मॉडर्न शाहदरा) का दौरा करता था। डीसीपी (क्राइम ब्रांच) राम गोपाल नैक ने कहा कि, यह उन यात्राओं में से एक था, जब शर्मा ने व्यापार सौदे के बारे में सुना।

हालांकि पुलिस इस अपराध में, अंदरूनी सूत्रों के शामिल होने की भूमिका की जांच कर रही है। अब तक उन्हें इस तरह का कोई सबूत नहीं मिला है। डीसीपी ने कहा की व्यापार सौदा, पड़ोस में आम जानकारी था। स्थानीय निवासियों ने इसे खुले तौर पर बताया। शर्मा ने दावा किया कि, उन्होंने पड़ोस के किसी दौरे के दौरान यह सुना था। गुप्ता ने कहा था कि, उन्हें तत्काल किसी कर्मचारी, व्यवसायिक सहयोगी या परिवार के सदस्यों पर संदेह नहीं है। गुप्ता ने कहा की, कॉल के दौरान, अपहणकर्ताओं ने ऐसा नहीं दिखाया, जैसे वे मेरे दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों के बारे में जानते थे। उन सभी को पकड़ने के लिए, मैं इसे पुलिस पर छोड़ता हूँ, गुप्ता ने कहा। संयोगवश, जब सोमवार को पुलिस ने लगभग 10 बजे शर्मा का पीछा किया, तो शर्मा को गुप्ता के पड़ोस में जाते पाया गया। शर्मा के साथ उसकी स्विफ्ट डिजायर कार में दो महिलाएं थीं। गुप्ता ने उन्हें पड़ोस में छोड़ दिया। हमें विश्वास है कि वे शर्मा की गर्लफ्रेंड थी, एक जांचकर्ता ने कहा।

साहिबाबाद के शालीमार शहर के फ्लैट, जहां विहांन को रखा गया था, अक्सर महिलाओं ने उस घर का दौरा किया था, पड़ोसियों ने बताया। पड़ोसी ने कहा कि, महिला आम तौर पर उसका चेहरा मुखौटे में रखती थी। पुलिस इस महिला से पूछताछ कर रही है कि उसकी अपराध में कोई भूमिका है या नहीं। हालांकि सोसाइटी के निवासियों ने दावा किया था कि, वह 12 दिन की अपहरण अवधि के दौरान भी वहां आई थी। लेकिन शर्मा ने पूछताछ के दौरान इस बात से इनकार किया है। डीसीपी ने कहा कि शर्मा, एक विवाहित व्यक्ति है जिसके कई महिलाओं के साथ अवैध संबंध थे। वह उन्हें उन फ्लैट में ले जाया करता था, जहां उन्होंने बाद में विहान को अपहरण कर रखा था।

हमारे वेबसाइट पर आने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। लेटेस्ट न्यूज़ पाने के लिए हमें सब्सक्राइब करना ना भूलें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *